divya medohar vati-से कितने दिन में होगा वजन कम

Patanjali divya medohar vati weight loss reviews in hindi

Patanjali divya medohar vati weight loss reviews in hindi-दिव्य मेदोहर वटी के इलावा कुछ और पतंजलि दवाईयां भी है जो weight loss करने में मददगार है। आइए जाने बाबा रामदेव Patanjali divya medohar vati for weight loss 
Patanjali divya medohar vati -आज हम मोटापा को कम करने के लिए divya medohar vati के बारे में जानेंगे जो पेट की चर्बी को कम करने, पाचन क्रिया को सही करने और स्वास्थ्य संबंधी परेशानी को सुधारने में मदद करता हैं। ये दवा बिलकुल हर्बल है जिससे हमारे काम करने की क्षमता और ऊर्जा को सह रखने में मदद करता है।

 

किन चीजों के मिलन से बनती है मनोहर वटी

दिव्य मेदोहर वटी के घटक द्रव्य (Ingredients of Divya Medohar Vati in hindi)

Patanjali divya medohar vati weight loss reviews in hindi
  • छोटी हरड़ – 28.60 मिलीग्राम
  • शुद्ध गुग्गुल – 86.50 मिलीग्राम
  • कुटकी – 14.30 मिलीग्राम
  • त्रिवृत (निशोथ) 14.30 मिलीग्राम
  • वायविडंग – 28.60 मिलीग्राम
  • शुद्ध शिलाजीत 14.30 मिलीग्राम
  • बबूल गोंद 28.60 मिलीग्राम
  • आमला (आंवला) या आमलकी 94.90 मिलीग्राम
  • बहेड़ा या बिभीतकी 94.90 मिलीग्राम
  • हरड़ या हरीतकी 94.90 मिलीग्राम

Patanjali divya medohar vati weight loss reviews in hindi-दिव्य मेदोहर वटी में Triphala और गुग्गुल मुख्य ओषधीय हैं। त्रिफला हमारे शरीर के मोटापे को दूर करने के लिए एक असरदायक दवा हैं। एक अध्ययन से भी यह पता चला हैं की मेदोहर वटी के प्रयोग से शरीर की वसा और वजन में काफी कमी होती हैं। ये पचाने की क्रिया को भी सुधारता हैं।

गुग्गुल में भी ऐसे ही गुण होते है जो वसा को तो कम करता ही हैं, साथ ही पेट की एक्सट्रा चर्बी को घटाने में और वजन को कम करने में भी मदद मिलती हैं। ये  शरीर में वसा को जमने से रोकने में मदद करता है।

कुटकी में भी भूख बढ़ाने के गुण होता है और ये हृदई के लिए एक टॉनिक के बराबर है। ये कृमिनाशक, ज्वरनाशक दवा है। इसको लेने से भूख सही से लगती है। त्रिवृत ओशोधीय एक दस्तावर है क्योंकि इसकी तासीर गरम होती है। हरीतकी भी एक रसायन ओषधि है जिससे पेट के रोगो को कम करने में मदद मिलती है और पेट के कीड़े को  खतम करती है।

Patanjali divya medohar vati weight loss reviews in hindi

(Benefits and uses of Divya Medohar Vati in Hindi)

    • दिव्य मेदोहर वटी वजन कम करने के लिए बहुत ही असरदार औषधि हैं। इससे पेट की चर्बी को कम करने में मदद मिलती है। इसकी एक गोली खाने से लाभ नहीं मिलता है कम से कम तीन गोली रोज तीन बार लेने से ज्याद प्रभाव पड़ता है।
    • मेदोहर वटी भूख को भी सही करने में मदद करती हैं।
    • मेदोहर वटी हार्मोन्स को संतुलित रखने में भी सहायक हैं।

  • इससे रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी मदद करता हैं।
  • यह metaboliism को सही करती है।
  • यह पाचन को सही कर ,fat को कम करने में करती है।
  • ये हॉर्मोनल असंतुलन को दूर करता है।
  • यह मांसपेशियो में दर्द,गठिया,जोड़ो का दर्द और स्पोण्डालयतीस के दर्द मे आराम देता है।
  • यह डियाबेटीस को बढ़ने से रोकने में भी कम  आता है।
  • यह कृमिनासक है।

दिव्य मेदोहर वटी के फायदे

यह Metabolism को सही करती है।

यह पाचन को सही कर, फैट को कम करने में मदद करती है।

यह हार्मोनल असंतुलन को दूर करती है।

यह रक्त परिसंचरण में सुधार करती है।

यह मांसपेशियों में दर्द, गठिया, जोड़ो का दर्द, स्पॉन्डिलाइटिस आदि में दर्द को कम करने में मदद करती है।

यह यकृत को उत्तेजित करती है और फैटी लीवर जैसी स्थितियों में मदद करती है।

यह मधुमेह जैसी वंशानुगत बीमारियों की शुरुआत को रोकने में मदद करती है।

यह कोलेस्ट्रोल, ट्राइग्लिसराइड, और लिपिड लेवल को कम करती है।

यह कृमिनाशक है।

यह विरेचक है।

यह मेदोहर है।

यह शरीर से चर्बी कम करती है

दिव्य मेदोहर वटी साइड-इफेक्ट्स/ कब प्रयोग न करें Cautions/Side effects/Contraindications

दवा की सटीक मात्रा व्यक्ति के पाचन, उम्र, वज़न और स्वास्थ्य को देख कर ही तय की जा सकती है।

दवा के साथ-साथ भोजन और व्यायाम पर भी ध्यान दें।

पानी ज्यादा मात्रा में पियें।

पीने के लिए हल्का गर्म पानी लें।

खाने में सलाद ज़रूर लें।

घी, मिठाई, चीनी, जंक फ़ूड, केक, बिस्किट, कोल्ड ड्रिंक, मैदे से बने भोज्य पदार्थ न खाएं।

यह दवा बारह साल से छोटे बच्चों को न दें।

गर्भावस्था में इसका प्रयोग न करें।

महिलायें जो बच्चे के लिए प्लान कर planning for conception रही हों वे इसका सेवन न करें। क्योंकि इसमें कई उष्ण वीर्य, लेखन, भेदन जड़ीबूटियाँ है।

यदि मासिक periods में इसके सेवन से ज्यादा ब्लीडिंग लगे तो इसका सेवन कुछ दिनों के लये बंद कर दें।

इस दवा में विरेचक laxative गुण हैं।

अधिक मात्रा में सेवन पेट में जलन कर सकता है।

यह दवा कुछ महीनों तक प्रयोग की जा सकती है।

अच्छे प्रभाव के लिए दवा के साथ-साथ जीवन शैली में भी परिवर्तन करें।

डायबिटीज हो तो इसके सेवन के दौरान रक्त शर्करा के स्तर को बराबर जांचते रहें।

गुग्गुलु के सेवन के समय खट्टे – तीक्ष्ण पदार्थों और अल्कोहल का सेवन न करें।

यह एक दवा है, इससे तुरंत जादुई असर नहीं होगा। दवा के साथ साथ खाने-पीने पर नियंत्रण और व्यायाम आवश्यक है। वज़न कितना ज्यादा है और कितने समय से है, खान -पान क्या, लाइफस्टाइल कैसी है, ये सभी फैक्टर दवा के परिणाम को प्रभावित करते हैं। धैर्य से सभी चीजों पर ध्यान दें, लाभ अवश्य होगा।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *