dengue treatment in hindi–डेंगू के रामबाण घरेलु उपाय

dengue ayurvedic treatment in hindi-डेंगू का इलाज के रामबाण घरेलु उपाय और आयुर्वेदिक नुस्खे

dengue treatment in hindi-डेंगू होने पर बुखार आता है, शरीर में प्लेटलेट्स कम हो होने लगते है और खून की कमी होने लगती है।

दुनिया भर में हर साल डेंगू के कारण हज़ारो लाखों लोग अपनी जान गंवा देते है, ये बीमारी एडीज नामक मच्छर के काटने की वजह से होती है। इस प्रजाति के मच्छर जादातर दिन मे काटते है और ये मच्छर साफ़ पानी में फैलते है।

ड्रम, टंकी और कूलर में पड़े पानी में ये मच्छर अंडे देते है। अक्सर लोग डेंगू होने पर घबरा जाते है, पर इस बीमारी में घबराने की नहीं धैर्य की जरुरत है।

इस लेख में डेंगू का इलाज के घरेलु नुस्खे और उपाय के साथ साथ इसके लक्षण और बचाव के बारे में पढ़ेंगे और जानेंगे डेंगू बुखार में क्या करे,

natural home remedies for dengue fever treatment in hindi.

डेंगू का इलाज के आयुर्वेदिक उपाय इन हिंदी –एलोपैथी में डेंगू के इलाज की अभी तक कोई दवा नहीं है, जादा परेशानी हो तो आप पेरासिटामोल ले सकते है।

डेंगू में बुखार कंट्रोल नहीं होता और रोगी के प्लेटलेट्स घटने लगते है। कई बार लगातार बुखार के रहने और प्लेटलेट्स के घटने से रोगी की मौत भी हो जाती है। इसी वजह से डेंगू को जान लेवा रोग कहा जाता है।

डेंगू का इलाज के घरेलु उपाय और आयुर्वेदिक नुस्ख

Dengu ka ilaj ke Gharelu Upay aur Ayurvedic Nuskhe

dengue ayurvedic treatment in hindi-एलोवेरा, गेंहू का ज्वारा, गिलोय और पपीते के पत्ते। इन सबको मिला कर इन का रस पीने से डेंगू में चमत्कारी ढंग से फायदा मिलता है।

ये उपाय चिकनगुनिया का इलाज में भी  काफी उपयोगी है। अगर ये सब चीज़े ना मिले तो गिलोय का पानी दिन में 3 बार पिये, इससे भी डेंगू के उपचार में फायदा मिलता है।

सुबह शाम घी या फिर या शहद में गिलोय का रस मिला कर पीने से खून की कमी दूर होती है।

बाबा रामदेव डेंगू बुखार का रामबाण इलाज

थोड़ी सी गिलोय पीस ले और उसमें 5 से 6 तुलसी की पत्तियां मिला कर 1 गिलास पानी में उबाल कर काढ़ा बना ले और मरीज को पिलाये।

इसके इलावा 2 से 3 चम्मच एलोवेरा रस पानी में मिला कर रोजाना पिए तो बहुत से बीमारियों से बचे रह सकते है। इसमे पपीते के पत्तों का रस मिला कर पीने से प्लेट्लेट जल्दी से बढ़ते है।

Baba Ramdev की बतायी गयी ये दवा डेंगू, चिकनगुनिया और स्वाइन फ़्लू के उपचार में उत्तम आयुर्वेदिक उपाय है।

डेंगू में पानी ज्यादा पिए यही है

  • डेंगू में पानी का भरपूर मात्रा में सेवन करना बेहद जरुरी होता हैं. ऐसा करने से शरीर की प्रक्रिया अच्छी बनी रहती हैं. पानी के अलावा आप फलों के रस का सेवन भी कर सकते हैं जैसे नारियल पानी, गन्ने का रस, गेहूं की घास का रस, अनार का रस, चुकुन्दर का रस आदि. बेहतर तो यही होगा की आप ज्यादा से ज्यादा पानी पिए.

dengue ayurvedic treatment in hindi-डेंगू का इलाज के आयुर्वेदिक उपाय इन हिंदी

  • डेंगू का घरेलु उपचार में बकरी का दूध : डेंगू फीवर में प्‍लेटलेट्स बहुत तेजी से घटती हैं ऐसे में इनकी भरपाई बकरी का दूध कर सकता हैं. जी हाँ दोस्तों बकरी के दूध से डेंगू बुखार का जड़ से आयुर्वेदिक उपचार किया जा सकता हैं, यह बहुत ही आसान नुस्खे में से एक हैं.
  • बकरी के दूध में ऐसे गुण होते हैं जो की सर्दी, खांसी, बुखार आदि को आसानी से दूर कर सके. इसके दूध में बहुत से विटामिन्स होते हैं, यह पचने में भी समय नहीं लगाता, यह सिर्फ 25 मिनट्स में ही हजम हो जाता हैं इतने जल्दी तो भैंस का दूध भी हजम नहीं होता. इस उपाय को कम उम्र के बच्चों पर नहीं आजमाए.
  • डेंगू में प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए गिलोय रोग-प्रतिरोधक क्षमता के लिए अचूक उपाय हैं, यह डेंगू के मरीजे के लिए तो रामबाण होती हैं क्योंकि यह शरीर को संक्रमण से लड़ने के लिए मजबूत बनाता हैं और साथ ही प्लेटलेट्स की संख्या को भी बढ़ाता हैं. जरा सी गिलोय लें और 8-9 तुलसी के पत्ते 1/2 glass पानी में डालकर इसका काढ़ा बनाये. यह काढ़ा बहुत ही अचूक इलाज की तरह काम करता हैं यह उपाय भी बाबा रामदेव ने ही प्रेस में बताया था.

जब डेंगू दिल्ली में फेल रहा था तब पपीते के पत्तों के रस पर एक शोध हुआ था उसमे कई लोगों को पपीते के पत्तों का रस दिया गया और आधे मरीजों को दूसरा डेंगू का ट्रीटमेंट दिया गया,

आखिरी परिणाम में जिन लोगों को पपीते के पत्तों का रस दिया गया था उनकी प्लेटलेट्स डेंगू के सामान्य ट्रीटमेंट से भी ज्यादा तेजी से बढ़ रही थी. इसलिए पपीते के पत्तों का रस जरूर पीना चाहिए

dengue ayurvedic treatment in hindi-डेंगू का इलाज के आयुर्वेदिक उपाय इन हिंदी

  • गिलोय का आयुर्वेदिक इलाज में उच्च स्थान हैं, यह शरीर में मेटाबोलिज्म को तेजी से बढ़ाता हैं, रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता हैं और शरीर को सभी तरह के संक्रमण से भी बचा कर रखता हैं.

इसके अलावा गिलोय के रस को पपीते का पत्तों के रस, अलोएवेरा का रस और अनार का रस इनके साथ पिने से रामबाण इलाज होता हैं, ऐसी कोई दवा नहीं हैं जो की इतनी तेजी से प्लेटलेट्स को बढ़ा सके जितनी तेजी से यह बढ़ाती हैं. (गिलोय+पपीता+अलोएवेरा+अनार= इनका सेवन कैसे करे यह हमने ऊपर बताया हैं)

  • हम सब जानते हैं की अनार का रस खून बढ़ाने का काम करता हैं लेकिन इसके साथ ही अनार का रस खून में मौजूद प्लेटलेट्स को भी बढ़ाता हैं जिससे डेंगू में मदद मिलती हैं. इसका सेवन पाचन संसथान के लिए बहुत सेहतमंद होता हैं. रोगी को दिन में दो बार तक अनार का रस करीबन 1 glass की मात्रा में जरूर पीना चाहिए.

डेंगू के लिए होमियोपैथी की दवा

  • डेंगू का होमियोपैथी की दवा से भी उपचार किया जा सकता हैं, इसके लिए आप यहां निचे दी जा रही दवाइयों का सेवन कर सकते हैं. Arsenicum, Aconite, Dulcamara, Bryonia और Rhus Tox इन सभी को आप 200 में लें यानी Arsenicum – 200, Aconite – 200 इस तरह आप इन दवाओं की किसी भी होमियोपैथी की दुकान से खरीद कर प्रयोग में ला सकते हैं.
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए डेंगू में होमियोपैथी की यह दवा भी ले सकते हैं – 30 C (Eupatorium Perfoliatum) इस दवा के नियमित सेवन से इम्युनिटी बढ़ती हैं. रोजाना बच्चों को यह गोली सिर्फ 2 ही दें और बड़ों को आप 5 गोलिया तक दे सकते हैं इसको 4-5 दिन तक रोजाना खाली पेट लें.

डेंगू बुखार में दें इन बातों पर विशेष ध्यान

घर पर किसी भी कोने में या किसी भी जगह पर ज्यादा दिनों तक पानी न भरकर रखें

कूलर का पानी ज्यादा दिनों तक भरा न रहने दें उसे बदलते रहे
बारिश के समय पर बर्तनो में भर जाने वाले पानी को निकालते रहे
अपने घर पर बने हुए पानी के टैंक में कीटाणुओं को मारने की दवा डालकर रखें
भोजन व रसोई घर में साफ़ सफाई का ध्यान रखे

किसी भी बर्तन को उपयोग में लाने से पहले एक बार उसे साफ पानी से धोये जरूर

डेंगू का घरेलु उपचार में जरुरी है की आप अपने घर के आस पास की जगह को साफ़ रखे व कीटनाशक दवाई
का छिडकाऊ करवाए
घर की खिड़कियों पर मच्छर को घर के अंदर आने से रोकने वाली जाली लगवाए
रात को बिस्तर पर मच्छर दानी का उपयोग करे

डेंगू जैसी घातक व जानलेवा बिमारियों से बचे रहने के लिए रोजाना तुलसी के पत्तों का सेवन जरूर करे

होम्योपैथिक मेडिसिन से डेंगू का उपचार
राजीव दिक्षित आयुर्वेद और होमियोपैथी विशेषज्ञ है, इन्होंने घरेलू और आयुर्वेदिक नुस्खे के बारे में लोगो को जागरूक किया और ये बताया कैसे हम एक स्वस्थ जीवन जी सकते है। होमियोपैथी से डेंगू के उपचार के लिए Rajiv Dixit ने कुछ होम्योपैथिक दवाओं के बारे में बताया है।

  • Arsenicum – 200
  • Aconite – 200
  • Belladonna – 200
  • Bryonia – 200
  • Dulcamara – 200
  • Rhus tox – 200

ये medicines मरीज के शरीर में खून की कमी पूरी करती है। इन दवाओं को शुरू करने से पहले किसी होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह ले और ये इनके प्रयोग का तरीका जाने।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *