dengue symptom in hindi-डेंगू बुखार के कारण, लक्षण एवम घरेलु उपचार

Dengue Symptom in hindi डेंगू बुखार के कारण, लक्षण एवम घरेलु उपचार (Dengu fever Causes, Symptoms, Precautions, Home remedy or treatment in Hindi)

dengue symptom in hindi-दुनिया भर में प्रति वर्ष लाखों लोग डेंगू का शिकार होते हैं.एक शोध के अनुसार पूरी दुनिया में हर साल 390 मिलियन डेंगू इन्फेक्शन के शिकार होते हैं. जिनमें से 96 मिलियन लोग तो रोग-ग्रस्त हो ही जाते हैं.

डेंगू होने की ज्यादा रिस्क इंडियन सबकॉन्टिनेंट,साउथ ईस्ट एशिया,साउथर्न- चाइना,ताइवान,पेसिफिक आइलैंड,मैक्सिको,अफ्रीका,सेंट्रल और साउथ अमेरिका में हैं. वैसे डेंगू फीवर सबसे ज्यादा साउथ ईस्ट एशिया और वेस्टर्न पेसिफिक आइलैंड में होता हैं. पिछले 10 से 12 वर्षों में भारत में भी डेंगू के रोगियों की संख्या लगातार बढ़ी हैं. सितम्बर 2015 में नयी दिल्ली में 1872 लोगो में डेंगू की बिमारी रिपोर्ट की गई.

डेंगू के लक्षण – dengue symptom in hindi

डेंगू के लक्षण – dengue symptom in hindi

  • तेज ठंड और बुखार

 

  • कमर, मांसपेशियों, जोड़ों और सिर में तेज दर्द

 

  • हल्की खाँसी, गले में दर्द और खराश

 

  • शरीर पर लाल-लाल दाने(रैश) दिखाई देता है.

 

  • थकावट, भूख न लगना और कमजोरी

 

  • उलटी और दर्द

डेंगू बुखार के लक्षण (dengue symptom in hindi)

  • डेंगू के लक्षण सामने आने में 3 से 15 दिन का समय लेते हैं ये लक्षण कभी मच्छर के काटते ही तुरंत सामने नहीं आते.
  • अन्य बीमारियों के जैसे ही आँखों में दर्द,भूख में कमी आना,पीठ दर्द ,तेज सरदर्द, ठंड लगना, बुखार आने के साथ ही डेंगू की शुरुआत हो सकती हैं.

 

  • डेंगू के वाइरस के ब्लड में फैलने के एक घंटे में ही जॉइंट्स में दर्द शुरू हो जाता हैं और व्यक्ति को 104 डिग्री तक बुखार भी आ सकता हैं. हाइपोटेंशन के साथ हार्ट रेट कम होना,ब्लड प्रेशर का तेजी से गिरना भी डेंगू के लक्षण हैं. इसके अलावा आँखों का लाल होना,चेहरे पर गुलाबी दाने दिखना, लिम्फ में इन्फ्लामेशन होना भी डेंगू का सूचक हो सकता हैं.

 

  • लेकिन ये सभी लक्षण डेंगू के पहले चरण में ही होते हैं जो कि 4 दिन तक चल सकते हैं.

 

  • उसके बाद दूसरा फेज शुरू होता हैं जिसमे कि अब तक बढ़ा हुआ बॉडी टेम्परेचर कम हो जाता हैं और पसीना होने लगता हैं. लेकिन इससे पहले शरीर का तापमान नार्मल हो जाता हैं, और रोगी को बेहतर महसूस होने लगता हैं लेकिन ऐसा भी 1 दिन से ज्यादा नही रहता और इस तरह से डेंगू के सेकंड फेज के लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं.

 

  • डेंगू के तीसरे फेज में शरीर का तापमान पहले से और ज्यादा बढ़ने लगता हैं, लाल दाने जो कि अब तक केवल चेहरे पर थे अब चेहरे के साथ पूरे शरीर पर दिखने लगते हैं

कैसे पता करे की डेंगू हुआ है या नहीं – DENGUE CHECKUP-dengue symptom in hindi

अगर ऊपर दिए गए लक्षणों में से कोई लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर क पास जाये. डेंगू (dengue) की जाचं के लिए एनएस 1 टेस्ट किया जाता है जिसके आधार पर डॉक्टर तय करते है की मरीज़ को डेंगू हुआ है या नहीं

डेंगू से बचाव कैसे संभव है                 dengue symptom in hindi

  • डेंगू से बचने के लिए मच्छरों से बचना बहुत ज़रूरी है जिनसे डेंगू के वायरस फैलते हैं ।
  • ऐसी जगह जहां डेंगू फैल रहा है वहां पानी को जमने नहीं देना चाहिए जैसे प्लास्टिक बैग, कैन ,गमले, सड़को या कूलर में जमा पानी ।
  • मच्छरों से बचने का हर सम्भव प्रयास करना चाहिए जैसे मच्छरदानी लगाना,पूरी बांह के कपड़े पहनना आदि।
  • बदलते मौसम में अगर आप किसी नयी जगह पर जा रहे हैं, तो मच्छारों से बचने के उत्पादों का प्रयोग करें।
  • आपके घर के आसपास अगर कहीं जगजमाव हो रहा है, तो वहां सफाई का खास ख्याल रखें।
  • मच्छर पैदा होने से रोकने का हर संभव प्रयास करें।
  • 5 दिन से अधिक समय तक बुखार होने पर रक्तजांच ज़रूर करा लें। डेंगू से बचना है तो मच्छरों से बचें।

ध्यान रहे कि डेंगू का मच्छर दिन के समय ही काटता है, इसलिए दिन में खुद को मच्छरों से बचाएं, मच्छरों से बचाने वाली क्रीम लगाएं और पूरी आस्तीन के कपड़े पहनें। खासतौर पर बरसात के समय फुल बाहों वाली कमाज और चप्पलों की जगह जूते जरूर पहनें। घर में कूलर, गमलों व परिंदों के पानी के लिये रखे बर्तनों आदि का पानी साफ करें। अपने घर के आसपास के गड्ढों में लार्वाभक्षी मछलियां डालें। ये मछलियां मलेरिया कार्यालय में निःशुल्क उपलब्ध होती हैं। घर में पानी की टंकियों को अच्छी तरह से ढक कर रखें।

 

डेंगू का इलाज़ – TREATMENT OF DENGUE IN HINDI

वैसे तो डेंगू (dengue)  का इलाज़ चिकित्सकीय प्रक्रिया से डॉक्टरो के द्वारा किया जाता है लेकिन सावधानी के तौर पर आप भी कुछ तरीके अपना सकते है.

  • रोगी को ज्यादा से ज्यादा तरल चीजे दीजिये ताकि उसके शरीर में पानी की कमी न हो

 

  • मरीज को पीपते के पत्ते पानी में या पीस कर दिए जा सकते है . यह शरीर में प्लेटलेट्स (platelets) बढाने का काम करते है लेकिन देने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरुर ले

 

  • मरीज को डिस्प्रीन और एस्प्रीन की गोली कभी ना दें

 

  • बुखार कम करने के लिए पेरासिटामॉल की गोली दी जा सकती है

 

  • जितना हो सके नारियल पानी और जूस पिलाये.

कैसे करे डेंगू से बचाव – DENGUE FEVER PREVENTION

डेंगू (dengue)  एक मच्छर  से होने वाली बीमारी का नाम है. यानी आपको अपना बचाव मच्छरों से करना है.

  • डेंगू का घर साफ़ पानी है इसलिए घर में या आस पास पानी २-३ दिन से ज्यादा न जमा होने दे. कूलरो में मिट्टी के तेल का छिडकाव करे. 1-2 दिन बाद घडो और बाल्टियों में जमा पानी को हटाते रहे.
  • अगर बुखार घर में ठीक न हो रहा हो तो एक बार जांच जरुर करवाए

 

  • जितना हो सके बच्चो को पूरी बाजू के कपडे पहेनाये

 

  • घर और गली में कीटनाशक का छिडकाव जरुर करवाए

 

  • जितना हो सके इस मौसम में घर की खिडकियों को बंद करके रखे

 

  • कूड़े के डिब्बे म कूड़ा न जमा होने दे

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *